आखिर अदालत ने सुनी मां की पीड़ा, मुकदमा हुआ दर्ज

0
131

बीकानेर (अभय इंडिया न्यूज)। अपने पुत्र को आत्महत्या के लिए प्रेरित करने वालों के खिलाफ मामला दर्ज कराने के लिए परिवादी मां ने पुलिस थाने के कई चक्कर काटे, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। आखिरकार मां ने अदालत का दरवाजा खटखटाया। तब जाकर आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज करने के आदेश हुए।
मुख्य न्यायिक मजिस्टे्रट बीकानेर ने परिवादी मंजू मोदी निवासी रानीबाजार के परिवाद पर कोटगेट पुलिस थाने को मामला दर्ज करने के आदेश दिए है। परिवादी मंजू ने अधिवक्ता हनुमान चौधरी के माध्यम से दस जनवरी को अदालत में परिवाद पेश किया था। अदालत ने गत ग्यारह जनवरी को मामले का अवलोकन करने के बाद कोटगेट पुलिस थाने के एसएचओ को एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए।
प्रकरण के अनुसार 28 दिसम्बर को परिवादी के पुत्र किशोर मोदी ने आत्महत्या कर सुसाइड नोट लिखा। उसमें उसने अपने सौतेले भाई सुशील मोदी, अंजू मोदी पत्नी सुशील, सौतले भाई नटवर व पिता सीताराम मोदी को घटना का कारक बताय। परिवादी मंजू के मुताबिक सीताराम मोदी ने तीन शादियां की थी। वह उसकी तीसरी पत्नी है।